Wednesday, December 2, 2009

Shooting a News Story

Planning a Story

You have just been asked to cover an earthquake, which has taken place a few hours back causing massive destruction and death. On reaching the spot you find lots of shots to be taken. Your Cameraman is on a filming spree. He films whatever he sees. On the editing table when you return you find lots of footage - many repetitions. But some important shots and crucial sound bites missing.
Questions that can help your reach the answers....
So how does one overcome this problem? The answer is planning.

Three vital questions:
Just before you go out to shoot, give some time to yourself to plan for it.
There are three vital questions which when answered will help you in planning your story. viz.

i) What is the story?
ii) What are the Sound Bites needed and from
iii) What are the visuals needed for the story? What is the story?

Some times the reporter may get lead time to ponder over these questions... however, most of the times he is in a hurry to cover the event. In order to still ensure that you get the right story.. there is no option but to think and resolve these stories at the back of your mind even as you travel to the location to shoot.
The answers to the other three questions actually make newsgathering a possibility.

What is the story?

This is one of the most basic and important questions that helps in carving your story. The answer to the question focuses the Reporter to what he should be looking for. However, the skill of knowing what the story is comes mainly with experience. Before answering the question the following aspects should be kept in mind.

a) What kinds of stories are welcome in your programme?

b) Who is your audience and what is their awareness level?

c) How many minutes can your story be?

A news story generally is between one to two and a half minutes long. Whereas, a story for a Current Affairs Newsmagazine can be 5 to 10 minutes long.

An example: An earthquake story could be any one of the following or perhaps a mixture of some of them:

Story 1) Reporting the event i.e. where and when it happened? What was the intensity of the quake and enormity of damage? How many were killed or injured?

Story 2) What causes an earthquake? What is an earthquake prone zone and which areas are more prone? How safe are the buildings in the areas etc.

Story 3) Was enough done as far as relief is concerned? What about rehabilitation?
Remember the “Simplify and Exaggerate” principle. These stories have been simplified. And now think of the various elements of the simplified story. You can go one step further here and block the stories into various segments.

In the Second story for instance:
Block 1: The information about the latest earthquake
Block 2: Why does an earthquake occur?
Block 3: The seismic zones
Block 4: What can be done (Safety to buildings etc.) and why it was not done.

So before starting to work on the story be sure of what your story is and its various elements? If you are a fresher- I would suggest discuss your story with a senior to get focussed. A clear answer to this question will automatically tune you to the next two questions.
If you know what your story is, you can also figure out the various elements associated with it.

What are the Sound Bites needed and from whom?

If you know the story you are doing, it's easy to think about who the right people to interview are and what sound bites you require from them. Framing the right question will get you the correct quote.
If it is not an interview where you are cornering someone, you could tell the interviewee in advance about what you are looking for. This will also reduce the amount of footage used for the interview. Thus, reducing the amount of time spent in previewing the tapes.

Be objective: Interview both sides, Give equal importance to both sides – in terms of time given, interview frame etc.

Example: I once covered a story on child labour in lime stone kilns. This was a story for a newsmagazine and hence the story duration was 15 minutes.
There we various elements to be covered for the story
a) Child Labour,
b) The physical dangers involved while working in the kilns,
c) Pollution and health hazards and
d) Low wages.

Let's take one aspect at a time and see what sound bites will be required for each one of them:

a) Child Labour:

i) We need sound bites of the children about hardships in the kiln
ii) The parents on why they are sending their children to work?
iii) The owners of the lime kilns on why they require children to work there?
iv) The Labour Commissioner on what action he has taken?

b) The physical dangers:
i) A Child's case study on how he fell of the kiln stairs. (The kilns have unprotected stairs - 20 or 25 in number. If they slip they will fall a good 10 -15 feet down) Another child can also talk about how he got burnt.
ii) The kiln owners on unprotected stairs.

c) Pollution and health hazards:

i) The children about their health problems.
ii) The parents explaining about the respiratory ailments of their kids.
iii) A doctor in the area talking about common health problem to kids.
iv) An environmentalist on pollution levels in the area.
v) The pollution control board on what action they have taken.

d) Low wages:
i) The children's sound bite on how much they are paid.
ii) Owners on why they are paying a pittance.
iii) The Labour Commissioner on what is being done on the low wages being paid there.

On doing this exercise you would find that even now there are more sound bites planned than required. Aim to get all of them as they may come handy when you are scripting. In the story I used brief bites from all of them.

The sound bites themselves should not say or cannot say the story- you require supporting visuals. In the next lesson we talk about how to plan for shooting visuals.

What are the visuals needed for the story?

If you have researched your story or under taken a recce to the area you would already have planned what shots you would take. However, if you haven't done it use your imagination and note all the ideal shots required.
Think about the various elements of the story and the ideal shots to portray them. Bring out the director in you and even think of the creative shots.
The various kinds of shots viz. Long shot, Close up, Pan etc. will be explained in the chapter on visuals.

An Example: In Andhra Pradesh, a southern state in India an on shore Oil Well caught fire. The fire raged some 20 metres high and kept burning for nearly a month. It could be seen for some few kilometres.
Trees in the neighbourhood got destroyed and the nearby villages had to be evacuated. There was a deafening sound because of the gushing gas.
The Oil and Natural Gas Commission (ONGC) was involved in trying to cap the well and put out the fire. A foreign team was also invited to help in putting off the fire. On the basis of this description pen down on a piece of paper the visuals that you can imagine.

Exercise : ( Write the Visuals down and then proceed)
Then compare it with the actual list of shots taken, which is given below.
1) An extreme long shot of the fire taken from one kilometre distance. This shot will establish that it could be seen from kilometres away.
2) Shot of the fire from various distances and angles.
3) Close up of the mouth of the well from which gas is gushing out
4) Burnt trees in the vicinity.
5) Empty villages.
6) Close up of empty houses
7) ONGC men trying to put out the fire.
8) These men used to drench themselves with water before they neared the fire. Shots of that. Both long shots and close ups
9) Water was used to keep the surrounding cool. Shots of water being sprayed.
10) Shots of water evaporating.
11) Sophisticated machines brought there.
12) Earmuffs used to keep the deafening sound away.
13) The nearby school, which was the temporary accommodation for the evacuated people.
14) Shots of regulation of movement in the area.
15) The foreign team assessing methods to control the fire.
16) Use of sophisticated machines by them.
17) Triggering of blasts by them to put off the fire.
18) The result of the blast on the fire etc.

Note that I have not used technical jargons for the various shots. If you are well versed with the terms used- you could explain it as long shots, close ups, wide shots etc.

Recce or reconnaissance
A visit to the area where you are going to shoot your story helps in planning the story better. Look for the following details while undertaking this recce.

1) Take into consideration the lighting in the area. Based on the lighting, fix the ideal time to shoot there. For instance if a place looks good during sunrise or sunset plan it then. Eg: seashore.
2) Listen to the ambience sound in the area. You may require to take a special microphone to capture the sound in the area or to avoid unwanted sound.
3) This visit can help you choose the ideal place for interviews
4) This will also help you in identifying the shots to take. Make a note of all of this.
5) New angles to your story may also emerge.
6) Look for the various visuals, which you could possibly get from there.
7) Spot the locals you could interview and set them up. Also conduct research by talking to them.
8) If the shooting would be at night make sure the availability of electricity for lighting. If there is none, you might have to take a battery sun gun.

Pre-Film Script

One more step ahead in planning a story is to write the pre-film script. This is a good idea only if you know the story well in advance.
Write a proper script with visuals on the left side and Commentary and sound bites on the right. i.e. typically like a script.
The art of writing a script would be discussed in detail in the chapter on Scripting. A pre-film script looks exactly like a script but all the elements are imagined and put on paper. The real story will be an attempt to emulate the pre-film script
One drawback of planning – Reality may not exactly be the same. But yet planning will not go waste because it does give you the framework to work with.
Also remember that despite planning your story you should be open to ideas and willing to change the story as per reality.

Tuesday, December 1, 2009

टीवी एंकरिंग

टीवी एंकर और रिपोर्टर

जब कोई व्यक्ति टेलीविजन के परदे पर समाचार देख रहा होता है तो उसके जेहन में दो व्यक्ति अहम हो जाते हैं- एंकर और रिपोर्टर। एंकर टेलीविजन के परदे पर पहले-पहल किसी खबर की सूचना देता है। उसके बारे में बताता है। रिपोर्टर वह होता है जो घटनास्थल से यह बता रहा होता है कि घटनाक्रम किस प्रकार हुआ। वास्तव में किसी महत्वपूर्ण खबर के दौरान दर्शकों के लिए यह महत्वपूर्ण नहीं होता कि वे कौन-सा चैनल देख रहे हैं। वह महत्वपूर्ण खबर जिस भी चैनल पर आ रही होती है, दर्शकों का रिमोट उसी चैनल पर ठहर जाता है। ऐसे में किसी भी समाचार चैनल के लिए एंकर और रिपोर्टर बहुत महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि दर्शकों को चैनल से जो़ड़ने का काम वही करते हैं।

टेलीविजन पत्रकारिता में एंकरिंग की भूमिका को समझने की जरूरत है। सफल एंकर वही हो सकता है जो देश, समाज के सभी पहलुओं को न केवल जानता-समझता हो, बल्कि अवसरानुकूल उन पर टिप्पणी करने की क्षमता भी रखता हो।

आज के दौर में एंकरिंग पर तकनीक का प्रभाव बढ़ रहा है। इसका कारण है कि आज तकनीकी रूप से जानकार लोग तो खूब आ रहे हैं, लेकिन विषय को समझने, उसकी गहराई में जाने में उनकी दिलचस्पी नहीं है। आज काम के प्रति समर्पण तो बढ़ा है, लेकिन यह भी सचाई है कि एक प्रकार का पेशेवर भाव भी उनमें बढ़ा है। यानी जब तक काम करना है, तब तक चुस्त-चौकन्ने रहना है और उसके बाद तैयारी का काम डेस्क पर छो़ड़ दिया। याद रखिए एंकर में समाज अक्सर अपने प्रतिनिधि की तलाश करता रहता है। लेकिन इस तरह के पेशेवर एप्रोच से वह चैनल का प्रतिनिधि अधिक लगने लगता है। समाज की कोई छवि उसमें नहीं दिखाई देती।

तकनीकी जानकारी हर एंकर को जरूर होनी चाहिए। उसको ओबी वैन की संभावनाओं-सीमाओं की पूरी तौर पर जानकारी होनी चाहिए। उसको कैमरे से जु़ड़े़ पहलुओं की जानकारी होनी चाहिए। उसे साउंड की जानकारी होनी चाहिए। लाइट की जानकारी होनी चाहिए। लेकिन ये जानकारियां उसके लिए अतिरिक्त जानकारी भर ही हैं या हो सकती हैं। इसका कारण यह है कि इन सब पहलुओं के विशेषज्ञ आपके साथ होते हैं, जो आपसे बेहतर इन सब चीजों को जान-समझ रहे होते हैं।

जब दिल्ली के पहा़ड़गंज में विस्फोट हुए थे तो उसके तीन दिन बाद की बात है। दीपावली का दिन था। रात के 10 बजे से बुलेटिन पढ़ने के लिए मुझे बुलाया गया था। यों ही मेरे जेहन में खयाल आया कि आज पहा़ड़गंज से एंकरिंग करूंगा। कैमरामैन को बुलाया। उससे बात की। उसने कहा कि ओबी वैन तो ले चलते हैं, लेकिन वहां पतली-पतली गलियां हैं। प्रोड्यूसर ने कहा, मान लीजिए कुछ फेल हो गया तो। उस दिन संयोग से कोई वैकल्पिक एंकर नहीं था। इसलिए इस बात का भी डर था। लेकिन मैंने कहा कि ओबी वैन है तो सिस्टम फेल होने का सवाल नहीं उठता। अगर ऐसा हुआ तो 10 मिनट के लिए कुछ रिकार्डिंग चला दी जाएगी और इसी बीच मैं ऑफिस आ जाऊंगा। पहा़ड़गंज पास में ही है।

10 बजे जैसे ही मेरे कान में कैमरे के रोल-इन की आवाज आई, उसी के साथ पीछे से मेरे कान में फायर ब्रिगेड की आवाज आने लगी। अब कैमरे से उस माहौल की झूलती-भागती तस्वीरें स्क्रीन पर आ रही थीं और फायर ब्रिगेड की आवाज भी। शुरू के दो से तीन मिनट तक स्क्रीन पर कोई एंकर नहीं था। यही दृश्य चल रहा था और पीछे से मेरी कॉमेंट्री चल रही थी कि पहा़ड़गंज में आग लग गई है। इससे कुल मिलाकर एक ऐसा दृश्य बन रहा था कि जिसने भी 'आजतक' को ट्यून-इन किया, वह वहीं पर टिका रह गया। इस भौचक्केपन को समझने और उसे खबरों से जो़ड़ पाने का नतीजा यह रहा कि इससे खबरों में एक ऐसा पहलू जु़ड़ गया जिसने उस दिन के उस प्रोग्राम की टीआरपी बढ़ा दी।

इसलिए एंकर होने के लिए जो बात समझने की है, वह यही है कि खबरों और उसके पहलुओं को समझना और उसके अनुसार तत्काल कार्रवाई करना। अगर आप समाचार चैनल में एंकरिंग कर रहे हैं या करने की तैयारी कर रहे हैं तो मानकर चलिए कि आप इस तरह की स्थितियों से बच नहीं सकते। इसलिए आजकल के युवाओं को जिस तरह से तकनीकी पहलुओं की समझ होती है, उसी तरह से वे अगर समाचार और उसकी बारीकियों को भी समझ लें तो सचमुच समाचार प्रसारण में काफी बदलाव आ सकता है। उसमें काफी सुधार हो सकता है। इससे टीम वर्क को बढ़ावा मिलता है।

अब बात यह आती है कि हमारे नए लोग फील्ड में एंकरिंग करने, विपरीत परिस्थितियों को अनुकूल बना पाने में सक्षम हैं या नहीं। वैसे यहां सवाल सक्षम होने का नहीं है। यहां दबाव इस रूप में रहता है कि इस दिशा में जाना ही प़ड़ेगा, क्योंकि हमारे यहां का समाज बैलेंस नहीं है। हमारे राजनेता व्यवस्थित नहीं हैं।

योरोप की तरह ऐसा नहीं है कि वे एक खास जगह आकर अपना बयान देंगे। वे कहीं से कुछ भी बोल देंगे और वह देश की एक ब़ड़ी खबर बन जाएगी। हमारे नीति-निर्धारक भी जब इस रूप में आगे चलते हैं कि किसी को खबर दे देते हैं। कभी-कभी तो बोलते समय उनको भी इसका अंदाजा नहीं रहता कि खबर इतनी ब़ड़ी हो जाएगी या कि इस तरह से भी इस खबर को व्याख्यायित किया जा सकता है। ऐसे में एंकर-रिपोर्टर के रूप में आपको ही उस खबर का महत्व समझना होगा और उसके अनुरूप तत्काल निर्णय लेना होगा। अब अगर आप इस आकलन को नहीं कर पाते तो यह पत्रकारिता के लिहाज से कमी ही मानी जाएगी।

एंकर को इस बात को समझना होगा कि जिस समाज में, जिस देश में वह काम कर रहा है वह एक 'असंतुलित' समाज है। इसलिए उसमें हमेशा कुछ न कुछ अप्रत्याशित-असंभावित की संभावना मौजूद होती है। इसलिए एक एंकर के रूप में उन संभावनाओं पर नजर रखने, उनको तलाशने, उनकी खोज में जाने की बात न भी हो तो जब ऐसा मौका उपस्थित हो जाए तो तत्काल उसे समझ लेने की क्षमता का विकास करना ब़ड़ा जरूरी होता है।

समझने की बात है कि एंकर भी उसी समाज का हिस्सा होता है। वह भी उसी द्वंद्व, उसी असंतुलन को देख-समझ रहा होता है। इसलिए यह पहलू अगर उसके काम में भी दिखाई देने लगता है तो वह कुछ अधिक सहज दिखाई देने लगता है। बने-बनाए तरीके से, पूर्व तैयारी के आधार पर जो एंकरिंग की जाती है वह रोबोटिक लगती है। उसमें न तो प्रयोग की कोई संभावना होती है, न ही उसकी कोई खास गुंजाइश होती है। सब कुछ ढर्रे के मुताबिक लगने लगता है। इस तरह की एकरसता से निकलने की राह भी एंकर को ही तलाश करनी प़ड़ती है। प्रयोग करने ही प़ड़ेंगे। यह माध्यम संभावनाओं से आगे जाने का माध्यम है। इसलिए इसकी सीमाओं से भी आगे जाने की कोशिश की जानी चाहिए।

हमारे यहां टीवी अभी पूरी तौर पर प्रोफेशनल नहीं हुआ है। वह सीख रहा है। कहना चाहिए कि वह प्रोफेशनल होने की प्रक्रिया में है। अगर हम यह मान लें कि टेलीविजन वही होता है, जो दिखाई दे रहा होता है तो इसमें यह देखने की आवश्यकता है कि इससे सीधे तौर पर जु़ड़े हुए जो लोग हैं वे मैच्योर हैं कि नहीं।

सीधे तौर पर दिखाई देने वाली चीजें क्या होती हैं। सबसे पहले तो एंकर होता है। वह हमेशा दिखाई देता है। उसके बाद रिपोर्टर दिखाई देता है। इन दो से आप जैसी ही हटिएगा, आपको ग्राफिक्स दिखाई देने लगते हैं। इसके अलावा, 'सुपर्स' दिखाई देते हैं- सुपर्स यानी टीवी स्क्रीन पर नीचे पंक्ति के रूप में चलने वाली खबरें। हमारे टीवी में जो लोग सुपर लिखते हैं, वे सीनियर पत्रकार नहीं होते हैं। वहां गलतियां दिखाई देने लगती हैं। इनको प्रशिक्षण देने की दिशा में कुछ नहीं होता। एंकर्स, रिपोर्टर्स के स्तर पर इनमें किसी का भी प्रशिक्षण नहीं होता।

ऐसे में होता यह है कि इन चारों ऊपर से बताए गए हिस्सों में वह हिस्सा हमेशा भारी हो जाएगा जिस हिस्से के लोग चैनल में सीनियर स्तर पर अधिक होंगे। ऐसे वरिष्ठ लोग हमारे यहां बहुत कम हैं, जो स्क्रीन पर भी आते हों, कामकाज भी संभालते हों और जो सीनियर भी हों। जो ऐसे हैं, उनको आप देखिएगा कि वे ही थो़ड़े-बहुत प्रयोग कर भी रहे हैं। अन्यथा प्रयोग न के बराबर हो रहे हैं।

रिपोर्टिंग में भी यही है। मान लीजिए कि एक तबका ऐसा है, जो सीनियर भी है तो क्या वह टेलीविजन पत्रकारिता सीख रहा है या उसके मन में अभी भी प्रिंट बसा हुआ है। इसका कारण यह है कि समझने की जरूरत है, यह फर्क बहुत ज्यादा है। प्रिंट में जो बात आपकी खबर के आखिरी पैरे में आ रही होगी, वह यहां पहले पैरे में लानी होगी, पहले पैरे क्या, हो सकता है पहली पंक्ति में।

अब मान लीजिए कि अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के भारतीय दौरे को लेकर किसी अखबार में आप खबर लिखते हैं और उसके विरोध के बारे में लिखते हुए आखिर में आप यह कहते हैं कि अलग-अलग प्रांतों से आए हुए लोग लाल किले में भरे हुए थे और उसमें पहली बार यह नजर आया कि वामपंथी काडर समूचे देश में अब भी मौजूद है, क्योंकि समूचे देश से लोग विरोध करने पहुंचे थे।

हाथों में लाल झंडा लिए हुए थे। हाथों में तख्तियां थीं। नारे लगा रहे थे और इनके जेहन में हो सकता है कि पश्चिम बंगाल का चुनाव हो। आप चाहकर भी इस मोटी बात को टीवी में छो़ड़ नहीं सकते हैं, क्योंकि उसमें आपका कैमरा शुरू यहीं से होता है, जब आपका कैमरा शुरू होगा तो आप कौन-सा शॉट पहला लेंगे।

आप शुरू ही इससे करेंगे कि देशभर का वामपंथी काडर आज बुश का विरोध करने लाल झंडे लिए लाल किले के मैदान में इकट्ठा हुआ। उसे इस बात का आक्रोश था कि सरकार ने अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए रेड कार्पेट क्यों बिछा दिया है। लेकिन ऐसी खबरों को लेकर एंकर की भूमिका काफी ब़ड़ी हो जाती है। उसे पता होना चाहिए कि जब खबर का पैकेज पूरा होगा तो क्या-क्या विजुअल होंगे?

अगर ऐसा नहीं है तो एंकर महज सपाटबयानी कर देगा या विवेक-प्रदर्शन को लेकर समूची जानकारी अपने 'वक्तव्य' में दे देगा। जबकि एंकर की भूमिका को लेकर उसकी टिप्पणी करते हुए आगे की खबर को लेकर रोचकता जगाती है। साथ ही समूची जानकारी भी नहीं देनी है। तो वह कह सकता है कि 'मनमोहन सरकार गठबंधन की सरकार है। ऐसे में रेड कार्पेट और लाल झंडे का फर्क मिटता रहा है। लेकिन लाल झंडा कहीं रेड कार्पेट के नीचे खो ना जाए, इसलिए दिल्ली में ही रेड कार्पेट कहीं और बिछी और लाल झंडा कहीं और नजर आया।'

टेलीविजन पत्रकारिता

ज़ाहिद खान

हमारे मुल्क में टेलिविजन पत्रकारिता का इतिहास कोई ज्यादा पुराना नहीं है. दूरदर्शन पर बीस मिनट के न्यूज बुलेटिन से शुरु हुई पत्रकारिता की यात्रा आज 24 घण्टे की हो गई है. टेलिविजन पर चैनलों की भीड़ में कोई एक सैंकड़ा से अधिक समाचार चैनल हैं. अलग भाषा, क्षेत्र, तेवर और नये रंगो-अंदाज वाले चैनल. सभी अपने मियां मिट्ठू सबसे अलग, ताजा और तेज. एक्सक्लूसिव और लाईव समाचार प्रसारित करने वाले. कहने को ये समाचार चैनल हैं और गोया कि इनको समाचार प्रसारित करने के लिये ही सरकार से लायसेंस हासिल हुआ है फिर भी अगर इनके किरदार पर मुलाहिजा फरमायें तो इन चैनलों में समाचार कहीं खो से गये हैं. यदि समाचार हैं भी तो उसमें वास्तविक अवाम से जुड़े हुये जरूरी मुद्दे कहीं खो गये हैं. अवाम के हक, हुकूक और इंसाफ की कभी लड़ाई लड़ने वाले ये समाचार चैनल आज सियासी पार्टियों, सरमायेदारों के महज नुमांइदे बनकर रह गये हैं. अपने आका के हित साधाना ही इनका अहम मकसद रह गया है. ये अनायास ही नहीं है कि तीसरी दुनिया में टेलिविजन, एकलवादी व वर्चस्ववादी संस्कृति व मूल्यों का वाहक माना जा रहा है वहीं टी.वी. पत्रकारिता को यूरो-अमेरिकी महत्वकांक्षाओं की पूर्ति के माध्यम के रूप में देखा जा रहा है.
वास्तविक मुद्दों से दूर टेलिविजन पत्रकारिता एक आभासी दुनिया रच रही है. एक काल्पनिक दुनिया. जिसका कि वास्तविकता से दूर-दूर तलक वास्ता नहीं है. फैक्ट और फिक्सन का फर्क मिटा दिया गया है. टेलिविजन की ओडियंस आभासी दुनिया में पहुंचा दी गई है. गरीब, गलीज, गम, वंचनाओं से भरी दुनिया से दूर एक मायावी संसार जहां क्रिकेट हर कला से ऊपर है और फिल्मी कलाकार कलमकार से ऊपर. खेती में कर्ज से डूबते-दम तोड़ते किसान जहां कोई खबर नहीं बनते लेकिन राखी-मीका, शिल्पा- रिचर्ड गेरे प्रकरण पल भर में राष्ट्रीय मुद्दा होता है. जूली-मटुकनाथ की अजब प्रेम कहानी करोड़ों भारत वासियों की राम कहानी से ज्यादा बड़ी बना दी जाती है और ये सब कुछ होता है योजनाबध्द तरीके से. बाजार की नियामक ताकतें पहले तो अपने हिसाब से समाचार को क्रियेट करती हैं फिर उसको चैनल पर बेचना शुरू कर देतीं हैं और समाचार का दोहन उस वक्त तक जारी रहता है जब तक कि उस पर विज्ञापन मिलता है. जैसे ही विज्ञापन मिलना बंद होता है. बाजार फिर एक ऐसे ही समाचार की तलाश शुरू करता है जो उसकी नजर में सेलेबल है और जो चैनल की टी.आर.पी. रेटिंग पल भर में बढ़ा दे. समाचार चैनलों की इस टीआरपी रेटिंग यानी चूहा दौड़ में अवाम के हकीकी मुद्दे बहुत पीछे छूट गये हैं. असल बात, अहमियत वाली हार्ड न्यूज कम होती जा रही है. समाचार चैनल के एजेण्डे में समाचार मूल्य, लोकहित, संतुलन और वस्तुनिष्ठता जैसे मूल्य या पैमाने नहीं हैं बल्कि टीआरपी रेटिंग है. सभी चैनल अव्वल नंबर पर आना चाहते हैं. अव्वल नंबर पर रहने की इस दौड़ में गलाकाट प्रतिस्पर्धा शुरू हो गई है जो आखिरकार दर्शकों के लिये ही नुकसानदेह साबित हो रही है.
घटनाओं की प्रस्तुति में प्रतियोगिता का नतीजा एक दूसरे से ज्यादा सनसनीखेज, उत्तेजक, हल्केपन और ऑडियंस के लोएस्ट कॉमन डिनोमिनेटर को सहलाने के रूप में सामने आ रहा है. समाचार चैनलों में घटनाओं को सनसनीखेज और उत्तेजक बनाने के लिये उन्हें जरूरत से कई गुना बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है. यही नहीं अब घटनाओं के प्रस्तुतिकरण में अति नाटकीयता का सहारा लिया जा रहा है. समाचार चैनल सार्वजनिक मसलों, बुनियादी सवालों से हटकर पेज थ्री के बेढंगे बेशउर नमूने बनकर रह गये हैं. जहां हाई प्रोफाईल हस्तियों के नितांत व्यक्तिगत जीवन, उनके निजी संबंधों और असुविधाजनक पहलुओं को निहायत ही असंवेदनशील, भौंडे और बेश्तर बार अश्लीलता की हद तक जाकर पेश किया जाता है. आर्थिक खबरों का मतलब जहां सेंसेक्स की उछल-कूद भर है. वहीं गरीब की खाली थाली उनके लिये कोई मायने नहीं रखती. घटनाओं के कवरेज में मेलो ड्रामा का असर है कि समाचार मीडिया के एजेण्डे पर अपराधा, सेलिब्रिटी, व्यक्तिगत अफेयर, नाईट पार्टीज, फैशन, लाईफ-स्टाईल, क्रिकेट और तथाकथित 'हयूमन इंटरेस्ट' स्टोरी अव्व्ल नंबर पर हैं. गुजिश्ता कुछ सालों से इंसानी जौक को गंभीर सियासी, आर्थिक, समाजी समस्याओं, सवालों और मुद्दों से उलट हल्की-फुल्की अराजनैतिक खबरों का पर्याय बनाने की साजिश मुसलसल जारी है.
दरअसल, अवाम से जुड़े हुये बुनियादी सवाल और समाचार फिजा में एक सियासी सिफर पैदा करते हैं. लिहाजा, अवाम का ध्यान ऐसे मुद्दों से हटाने के लिये उन्हें गैर जरूरी मुद्दों में जान-बूझकर, सोचे समझे तरीके से उल्झा दिया जाता है. इन गैर जरूरी मुद्दों को समाचार चैनल द्वारा इस तरह से पेश किया जाता है. मानो यही वास्तविक यथार्थ हो. समाचार चैनलों की यदि पड़ताल करें तो यह अहसास साफ-साफ हो जाता है कि वे किसी लोक हित से प्रेरित होकर इस क्षेत्र में नहीं आये हैं बल्कि अपने आका और देश-विलायती निवेशकों के हित और उन्हें ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाके देना ही उनका असल मकसद है. पूंजीवाद मे मीडिया ये काम शुरू से ही करता रहा है. जाहिर है, समाचार चैनल अपने दर्शकों को नागरिक नहीं बल्कि उपभोक्ता मानकर बर्ताव करते हैं. जबकि नागरिक और उपभोक्ता में बड़ा फर्क होता है और उनकी सूचना जरूरतें भी अलहदा होती हैं. असल में चैनलों को नागरिक नहीं कंज्यूमर चाहिये जिन्हें ज्यादा से ज्यादा बटोरकर अपने विज्ञापन दाताओं को बेच सकें. यही वजह है कि आज समाचार चैनलों के बीच मुकाबला कार्यक्रमों की गुणवत्ता और उनके स्तर को लेकर नहीं है बल्कि अधिक से अधिक दर्शक बटोरने का है. असल में बाजार ही वह अहम वजह है जिसके चलते चैनलों में पत्रकारीय उसूलों और स्थापित मान्यताओं के बरखिलाफ समाचार गढ़ने में भी हिचक नहीं रह गई है. समाचार चैनलों के कार्पोरेटीकरण की प्रक्रिया ने उस संपादकीय दिमाग और हिम्मत को घुटने टेकने के लिये मजबूर कर दिया है जो सत्ता के आगे कभी खंब ठोके खड़ी रहती थी.
पसमंजर यह है कि इलेक्ट्रोनिक मीडिया पर पूंजीवाद का प्रभाव साफ देखा जा रहा है. हमारे समय में पूंजीवाद ने मनुष्य की संवेदनाओं व सूचनाओं को कमोडिटी में रूपांतरित कर दिया है. इलेक्ट्रोनिक मीडिया के लिये समाचार और सूचनायें सिर्फ कमोडिटी हैं जिसे बेचकर ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है. अब मीडिया समाज की नियति तय नहीं कर रहा है बल्कि इसे बाजार तय करता है. और ये बाजार ही है जो सारी गड़बड़ियां पैदा कर रहा है. इलेक्ट्रोनिक मीडिया के पहले वाले लोककल्याणकारी चेहरे की चमक धूमिल होती जा रही है. जिस मीडिया की तामीर अवाम को शिक्षित करना. उसमें समाजी, सियासी, बेदारी पैदा करने के लिये हुई थी. वह अवाम को सही रास्ते से भटकाकर उसे गुमराह करने में लगा हुआ है. टी.वी और अवाम के बीच पहले वाला संप्रेषणीय व स्पर्शणीय संबंधा न के बराबर रह गया है. मीडिया का दायित्व लोगों को मनोरंजन व खबर पहुंचाना ही नहीं होता बल्कि उन्हें विवेधात्मक, विवेकात्मक व विवेचनात्मक चेतना से भी समृध्द करना होता है. यही नहीं मीडिया का उत्तरदायित्व महज कार्यक्रमों का प्रसारण करना भी नहीं है बल्कि इससे कहीं अधिाक उसकी समाज के जानिब जबावदेही है. इलेक्ट्रोनिक मीडिया को जनता के हितों और अपनी जिम्मेदारियों को गंभीरता से समझना चाहिये. वह कंटेट के सिलेक्शन से पहले यह देखे कि वह समय सापेक्ष है या नहीं. जिस कंटेट को चैनल पर अहमियत से पेश किया जा रहा है उससे बेश्तर अवाम के हित जुड़ते हैं या नहीं.
बहरहाल, इलेक्ट्रोनिक मीडिया को ऐसी सूचनाओं को तरजीह देना चाहिये जो विकास का पैगाम तथा विकास पध्दतियों की जानकारी समाज के हर तबके तक, खासकर वंचित, कमजोर और हाशिये से नीचे के वर्ग तक पहुंचाये. टेलिविजन पत्रकारिता का मकसद टीआरपी रेटिंग और कमाई में अव्वल रहने के अलावा सामाजिक भेदभाव और सामाजिक तनाव कम कर आम जन को विकास की प्रक्रिया में स्वयं भाग लेने के लिये प्रेरित करना भी होना चाहिये. यही नहीं मीडिया द्वारा लक्षित समाज को सार्थक रूप से सूचना संपन्न बनाने के लिये गंभीर विचार-विमर्श करना चाहिये. जो अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय, क्षेत्रीय तथा स्थानीय स्तर पर आम जनों की जिंदगी को प्रभावित करे. टेलिविजन पत्रकारिता साम्राज्यवादी पूंजी का खिलौना न बनकर समाज और मुल्क के सामने एक बड़ी मिसाल सामने रख सकती है. जनसंख्या नियंत्रण, निरक्षरता उन्मूलन, महिला सशक्तीकरण, पोषाहार कार्यक्रम और सभी तरह के भेदभाव, वैचारिक पिछड़ेपन तथा अंधाविश्वासों कर्मकाण्डों, सामंती प्रथाओं, धार्मिक संकीर्णताओं, जातिगत संस्कारों के खिलाफ मुहिम छेड़कर मीडिया अपनी भूमिका बेहतर से निभा सकता है. कुल मिलाकर इलेक्ट्रोनिक मीडिया उपभोक्तावादी बाजार का औजार भी बन सकता है और सामाजिक विकास का भी. मीडिया का सामाजिक विकास के सशक्त औजार के रूप में इस्तेमाल तभी हो सकता है जब कैमरे को एक्टीविस्ट वैपन (कर्मठ हथियार) के रूप में इस्तेमाल किया जाये और वह हजारों लोगों की आवाज और चेहरा बने.